शिशुओं को चॉकलेट कब  कैसे कितना खिलाए: क्या है इसके फायदे और नुकसान 

चॉकलेट खिलाने की सही उम्र

चॉकलेट खिलाने की सही उम्र दो साल से ऊपर की है। एक साल तक के बच्चों को चॉकलेट नहीं देनी चाहिए। इससे उन्हें डायरिया, पेट दर्द, उल्टी जैसी समस्याएं हो सकती हैं। दो साल से ऊपर के बच्चों को भी चॉकलेट का सेवन सीमित मात्रा में ही कराना चाहिए।

चॉकलेट के नुकसान

* मोटापा * दांतों में सड़न * एसिडिटी * सिरदर्द * उल्टी * एलर्जी

चॉकलेट खिलाते समय सावधानियां

* शिशु को चॉकलेट की बहुत कम मात्रा दें। * चॉकलेट को छोटे टुकड़ों में काट दें। * चॉकलेट को दूध या दही में मिलाकर दें। * चॉकलेट को शिशु के हाथ में न दें। * ध्यान दें चॉकलेट से बच्चें को एलर्जी  तो नहीं है।

शिशुओं के लिए अच्छी चॉकलेट

शिशुओं को डार्क चॉकलेट या बिना सिरप वाली चॉकलेट देना चाहिए। इनमें कैफीन और थियोब्रोमाइन की मात्रा कम होती है।

शिशुओं के लिए चॉकलेट की मात्रा

दो साल से छोटे बच्चों को भी चॉकलेट का सेवन सीमित मात्रा में ही कराना चाहिए। एक दिन में 10 ग्राम से ज्यादा चॉकलेट नहीं देनी चाहिए।

चॉकलेट खिलाने के फायदे

चॉकलेट में कुछ पोषक तत्व भी होते हैं। चॉकलेट में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट बच्चों को कई बीमारियों से बचा सकते हैं। चॉकलेट में मौजूद मैग्नीशियम बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाने में मदद कर सकता है।

चॉकलेट खिलाने के टिप्स 

* चॉकलेट केवल सीमित मात्रा में ही दें। * बच्चों को काली चॉकलेट के बजाय डार्क चॉकलेट दें।  *बच्चों को चॉकलेट खाने के बाद ब्रश कराएं  * हाथ और मुँह को साफ करें।  

चॉकलेट में क्या पाया जाता हैं।

* कैफीन और थियोब्रोमाइन * कोकोआ बटर * कैलोरी  * चीनी *एंटीऑक्सीडेंट, मैग्नीशियम

बच्चों के स्वास्थ से सम्बन्धित जानकारी देखें। 👆👆👆