बच्चों को चुसनी देने के फायदे व नुकसान

बच्चों को चुसनी देने के फायदे

अचानक होने वाली शिशुओं की मृत्यु (SIDS) के खतरे को कम करता है। एक अध्ययन के अनुसार, 6 महीने से कम उम्र के शिशुओं को चुसनी देने से SIDS के खतरे को 33% तक कम किया जा सकता है।

बच्चों को चुसनी देने के फायदे

बच्चे को आराम और सुकून देता है। चुसने की क्रिया बच्चे को शांति और सुरक्षा की भावना देती है। यह बच्चे को रोने से रोकने में मदद कर सकता है।

बच्चों को चुसनी देने के फायदे

बच्चे को सोने में मदद करता है। चुसनी बच्चे को जल्दी और अच्छी तरह से सोने में मदद कर सकती है।

बच्चों को चुसनी देने के फायदे

बच्चे के मसूड़ों को दर्द से राहत देता है। जब बच्चे के दांत निकलते हैं, तो चुसने की क्रिया मसूड़ों को दर्द से राहत देने में मदद कर सकती है।

बच्चों को चुसनी देने के नुकसान

स्तनपान को प्रभावित कर सकता है। यदि शिशु को चुसनी की आदत लग जाती है, तो वह स्तनपान करने में कम रुचि दिखा सकता है।

बच्चों को चुसनी देने के नुकसान

दांतों और कानों की समस्याओं का खतरा बढ़ सकता है। चुसने की क्रिया से शिशु के दांतों का गलत विकास हो सकता है और कानों में संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है।

बच्चों को चुसनी देने के नुकसान

बोलने में देरी का कारण बन सकता है। अगर बच्चे को लंबे समय तक चुसनी दी जाती है, तो इससे उसके बोलने में देरी हो सकती है। 

बच्चों को चुसनी कब देना चाहिए?

बच्चों को चुसनी देने का कोई सही या गलत समय नहीं है। कुछ माता-पिता अपने बच्चों को जन्म से ही चुसनी देते हैं, जबकि कुछ माता-पिता बच्चे को कुछ महीनों के बाद।

बच्चों को चुसनी कैसे देनी चाहिए?

– चुसनी का आकार और आकार बच्चे की उम्र के अनुरूप होना चाहिए। – चुसनी को साफ और सूखा रखें। – चुसनी को बच्चे के मुंह में तब तक न दें जब तक कि बच्चा रो रहा न हो। – चुसनी को बच्चे को सोते समय न दें।